CHHATTISGARHNATIONALSARANGARH

आमाकोनी के जंगल में लगी थी अवैध शराब की फैक्ट्री को अनिल बंजारे एंड टीम ने किया ध्वस्त

Advertisement

“प्रखरआवाज@न्यूज़”

भारी मात्रा में महुआ शराब और 8000 हजार किलो महुआ लाहन सहित

सारंगढ़ न्यूज़/ सारंगढ़ पुलिस के लाख कोशिश के बावजूद भी महुआ शराब कारोबारी बाज नहीं आ रहे हैं। जहां क्षेत्र के आमाकोनी डेम इलाके में आबकारी विभाग ने छापेमारी कर एक बड़े महुआ शराब की फैक्ट्री को ध्वस्त कर दिया है ।मौके से सारंगढ़ आबकारी विभाग की टीम ने भारी मात्रा में महुआ पास ,शक्कर,ईस्ट और कच्ची महुआ शराब जप्त किया है।वही छापेमारी की भनक लगते ही आरोपी भाग निकलने में सफल रहे ।

सहायक जिला आबकारी अधिकारी अनिल बंजारे ने बताया की क्षेत्र के आमाकोनी डेम इलाके में महुआ शराब की एक बड़ी फैक्ट्री के संचालन की सूचना मुखबिर से लगातार प्राप्त हो रही थी ।जहां छापेमार कार्रवाई किया गया ।हालाकि इस छापेमार कार्रवाई की भनक लगते ही आरोपी भाग निकलने में सफल हो गए लेकिन उनके मनसूबे को नाकाम कर दिया गया है ।महुआ शराब की चढ़ी भट्ठियां नष्ट कर दी गई ।वही मौके से करीब 160 लीटर महुआ शराब,8000 किलो महुआ लाहन,50 किलो शक्कर और भारी मात्रा में ईस्ट जप्ति किया गया है ।

आबकारी अफसर अनिल बंजारे ने कहा कि क्षेत्र में महुआ शराब की तस्करी और बिक्री बड़े पैमाने पर किया जा रहा है जिसपर लगाम लगाने के लिए जिला कलेक्टर और विभाग के बड़े अधिकारियों के निर्देश पर अभियान चलाकर छापेमार कार्रवाई की जा रही है जिसमे बड़ी सफलता हाथ लगी ।कहा की पूरे क्षेत्र में आबकारी विभाग के मुखबिर पूरी सक्रियता से पैनी नजर बनाए हुए है सूचना प्राप्त होते ही आगे भी कार्रवाई लगातार जारी रहेगी ।

सीमित बल और बड़े बलवान है अनिल बंजारे
बताना लाजमी होगा की पुलिस महकमे की तुलना में एक प्रतिशत भी बल नही होने के बावजूद आबकारी अधिकारी अनिल बंजारे का काम बेहद सराहनीय है अनिल बंजारे केवल अपने सीमित बल के साथ बड़ी बड़ी कार्रवाई कर रहे है ।इन्होंने कुछ महीने पूर्व भी अकेले दम पर महुआ शराब के सरगनाओं को धूल चटाते हुए जेल भेजा था ।जो हालाकि कुछ महीनो बाद जेल से रिहा हो गए लेकिन अनिल बंजारे के डर से महुआ शराब बनाने और बेचने की हिमाकत नही कर रहे है।

Advertisement
Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button