NATIONAL

आज शाम चार बजे धरती से टकरा सकता है विशालकाय Asteroids, 50 साल पहले हुई थी ऐसी घटना, मची थी भयंकर तबाही

Advertisement

नई दिल्ली : एक विशालकाय क्षुद्रग्रह धरती की ओर तेजी से बढ़ रहा है और अब इसके लेकर अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने अलर्ट जारी करते हुए कहा है कि ये धरती से टकरा सकती है। बताया जा रहा है कि क्षुद्रग्रह प्लेन के आकार का है, जो अगर धरती से टकराया तो भयंकर तबाही मचाएगा।

वैज्ञानिकों की मानें तो आज शात करीब चार बजे क्षुद्रग्रह धरती के पास से गुजरेगा, लेकिन क्षुद्रग्रह अगर थोड़ा भी अपने रास्ते से भटका को धरती से टकरा सकता है। हालांकि वैज्ञानिकों का ये भी कहना है कि इसकी संभावना बेहद कम है

नासा का कहना है कि इसी तरह की घटना 52 हजार साल पहले भी हुई थी। वैज्ञानिकों का कहना है कि इसी आकार का एक क्षुद्रग्रह हमारी धरती से टकराया था। तब तबाही मची थी।

अगर ऐसी घटना फिर होती है तो पृथ्वी में 2.2 किलोमीटर लंबा और 467 मीटर गहरा गड्ढा बन जाएगा। हालांकि नासा के वैज्ञानिकों का कहना है कि इसकी धरती से टकराने की संभावना बेहद कम है। ज्यादातर इस क्षुद्रग्रह के धरती से बेहद नजदीक से गुजरने की संभावना है।

नासा ने यह भी कहा कि 7.4 मिलियन किमी की दूरी से धरती की तरफ बढ़ रहे इस क्षुद्रग्रह का आकार 330 मीटर चौड़ा और 750 मीटर लंबा है। अगर य़ह क्षुद्रग्रह धरती से टकरा गया तो इससे पृथ्वी पर 424 मेगाटन के बराबर ऊर्जा निकलेगी। इससे तबाही मच सकती है और आस-पास का इलाका पूरी तरह से नष्ट हो सकता है। आस-पास की इमारतें ध्वस्त हो सकती हैं।

क्षुद्रग्रह असल में एक चट्टान है। इसका अपना कोई वायुमंडल नहीं होता। यह हमारे सौर मंडल का हिस्सा जरूर होता है लेकिन, न यह ग्रह की श्रेणी में आता है और न ही उपग्रह। यह हमारे सौर मंडल के भीतर परिक्रमा करता रहता है। क्षुद्रग्रहों के आकार में भी काफी भिन्नता होती है। इनका व्यास एक किलोमीटर से लेकर एक हजार किलोमीटर तक हो सकता है।

इससे पहले, नासा ने एक अन्य क्षुद्रग्रह को लेकर भी चेतावनी दी थी कि 280 फीट आकार जितना बड़ा एक क्षुद्रग्रह 21 अप्रैल को पृथ्वी से टकरा सकता है। इस क्षुद्रग्रह को 2024 GM नाम दिया गया था। हालांकि हुआ यूं कि यह धरती के पास से गुजरा और फिर घूमकर उसी तरफ निकल गया, जहां से आया था।

Advertisement
Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button