CHHATTISGARH

पीड़ित ने कलेक्टर को लगाई गुहार

Advertisement


जिला शिक्षा अधिकारी पर मानसिक प्रताड़ना व परेशान करने की शिकायत

सारंगढ़. जिला शिक्षा अधिकारी सारंगढ़- बिलाईगढ द्वारा अकारण एक लिपिक को निलंबित कर दिया गया और पीड़ित के जबाब को अस्वीकार कर उसे लिपिकीय प्रभार से हटाकर 52 किलोमीटर दूर शासकीय हाईस्कूल बोडा विकासखंड बिलाईगढ में पदस्थ करने का आदेश जारी हुआ है। ऐसे में पीड़ित लिपिक चंद्रशेखर सिंह ठाकुर ने कलेक्टर को लिखित में जिला शिक्षा अधिकारी के रवैये की शिकायत करते हुए उनके खिलाफ कार्रवाई की गुहार लगाई है।

कलेक्टर को सौंपे गए शिकायत में कहा गया है कि पिछले माह लिपिक चंद्रशेखर सिंह ठाकुर को जिला शिक्षा अधिकारी ने कारण बताओ नोटिस जारी किया गया था। जिसका साक्ष्य सहित जवाब प्रस्तुत करने के बाद भी समाधानकारक नहीं माना बल्कि उसे पेंशन संबंधी प्रभार कार्यालय के आदेश को धता बताकर निलंबित कर दिया। जो उसके पूर्व मुख्यालय से अब 52 किलोमीटर दूरी पर है। पीड़ित ने आरोप लगाया है कि विभागीय जांच के बाद पुनः जिला शिक्षा अधिकारी ने आरोप पत्र जारी कर दिया।

इस तरह बार – बार कारण बताओ नोटिस जारी किया जा रहा है। ऐसे में पीड़ित ने जानबूझकर मानसिक प्रताड़ित करने के उद्देश्य लगाने का अधिकारी पर गंभीर शिकायत की है। इस मामले में जिला शिक्षा अधिकारी एस. एन. भगत का पक्ष जानने के लिए फोन लगाने पर पीड़ित चंद्रशेखर सिंह ठाकुर के बारे में बताया गया तो उन्होंने पक्षपात नहीं करने की बात कहीं और रुपए मांगे जाने के सवाल को सुनें बगैर फोट काट दिया।  दोबारा उनके मोबाइल फोन पर रिंग जाने के बाद भी उन्होंने रिसीव नहीं किया।

रुपए मांगने का लगाया आरोप

पीड़ित ने शिकायत पत्र में स्पष्ट शब्दों में आरोप लगाया है कि जिला शिक्षा अधिकारी एस . एन. भगत ने उसे निलंबन से बहाल करने के बदले 80000 रुपए की मांग किया गया। अब उनके मन मुताबिक मांग को पूरी न करने पर कारण बताओ नोटिस के जवाब को असंतोष जनक मान निलंबित कर उसका मुख्यालय 52 किलोमीटर दूर निर्धारित कर दिया गया है। पीड़ित ने कलेक्टर को अपने पारिवारिक समस्या से भी अवगत कराया है और अन्य बिंदुओं को रखकर न्याय दिलाने की मांग की है।

विभागीय जांच को यथावत रखने की तैयारी
बताया गया है कि अधिकारी ने दुर्भावना वश उसके मांग की गई राशि न देने पर कलेक्टर से अनुमोदन कराकर विभागीय जांच को यथावत रखने की तैयारी चल रही है । उसे
अन्यत्र  दूर वाले जगह में भेजा जा रहा है और भेज भी दिया है। इससे परेशानी हो रही है।

” हम नियमानुसार काम कर रहे है। किसी के ऊपर पक्षपात करके कार्रवाई नहीं किया गया है।
      एस. एन. भगत, डीईओ
   सारंगढ़ – बिलाईगढ  .

Advertisement
Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button